बिटकॉइन क्या है
Advertisement

बिटकॉइन एक डिजिटल करेंसी है, जिसे वॉलेट में रखा जा सकता है। यह एक तरह का इलेक्ट्रॉनिक पैसा है, जिसका इस्तेमाल ऑनलाइन खरीदारी करने के लिए किया जा सकता है। बिटकॉइन को किसी भी सरकार या बैंक द्वारा नियंत्रित नहीं किया जाता है, इसलिए यह पूरी तरह से स्वतंत्र है।

बिटकॉइन क्या है?

बिटकॉइन एक इलेक्ट्रॉनिक पैसा है, जिसे आप ऑनलाइन खरीदारी करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। यह किसी भी सरकार या बैंक द्वारा नियंत्रित नहीं होता है, इसलिए यह पूरी तरह से स्वतंत्र है।

बिटकॉइन का इस्तेमाल क्यों किया जाता है?

बिटकॉइन एक इलेक्ट्रॉनिक पैसा है, जिसका इस्तेमाल हम ऑनलाइन खरीदारी करने या किसी भी तरह के लेन-देन करने के लिए कर सकते हैं। बिटकॉइन एक विकेंद्रीकृत मुद्रा है, जिसका मतलब है कि यह किसी भी सरकार या बैंक द्वारा नियंत्रित नहीं होती है।

बिटकॉइन का इस्तेमाल करने के कई फायदे हैं, जिनमें शामिल हैं:

Advertisement
  • तेज और कुशल: बिटकॉइन लेन-देन बहुत तेज़ और कुशल होते हैं। बिटकॉइन लेनदेन को पूरा होने में आमतौर पर केवल कुछ मिनट लगते हैं।
  • सुरक्षित: बिटकॉइन एक सुरक्षित मुद्रा है। बिटकॉइन लेनदेन को हैक करना बहुत मुश्किल है।
  • गोपनीय: बिटकॉइन लेनदेन गुप्त रहते हैं। बिटकॉइन लेनदेन में शामिल लोगों के नाम और पता सार्वजनिक रूप से दिखाई नहीं देते हैं।

बिटकॉइन का इस्तेमाल दुनिया भर में कई अलग-अलग उद्देश्यों के लिए किया जाता है। इसका इस्तेमाल ऑनलाइन खरीदारी, दान, और यहां तक ​​कि निवेश करने के लिए किया जाता है।

बिटकॉइन वॉलेट क्या है?

बिटकॉइन एक इलेक्ट्रॉनिक पैसा है, जिसे हम ऑनलाइन खरीदारी करने या किसी भी तरह के लेन-देन करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। बिटकॉइन एक विकेंद्रीकृत मुद्रा है, जिसका मतलब है कि यह किसी भी सरकार या बैंक द्वारा नियंत्रित नहीं होती है।
बिटकॉइन को स्टोर करने के लिए, हमें एक बिटकॉइन वॉलेट की आवश्यकता होती है। बिटकॉइन वॉलेट एक ऐसा डिजिटल कंटेनर होता है, जिसमें हम अपने बिटकॉइन को सुरक्षित रूप से स्टोर कर सकते हैं।

बिटकॉइन वॉलेट कई तरह के होते हैं, जैसे:

  • डेस्कटॉप वॉलेट: डेस्कटॉप वॉलेट एक कंप्यूटर प्रोग्राम होता है, जिसे हम अपने कंप्यूटर पर इंस्टॉल कर सकते हैं।
  • मोबाइल वॉलेट: मोबाइल वॉलेट एक मोबाइल एप्लिकेशन होता है, जिसे हम अपने मोबाइल फोन पर इंस्टॉल कर सकते हैं।
  • ऑनलाइन वॉलेट: ऑनलाइन वॉलेट एक वेबसाइट या ऐप होता है, जिसे हम किसी भी इंटरनेट ब्राउज़र से एक्सेस कर सकते हैं।
  • हार्डवेयर वॉलेट: हार्डवेयर वॉलेट एक भौतिक डिवाइस होता है, जिसमें हम अपने बिटकॉइन को स्टोर कर सकते हैं।

बिटकॉइन वॉलेट हमें एक अद्वितीय आईडी प्रदान करता है, जिसे एड्रेस कहा जाता है। यह एड्रेस बिटकॉइन ट्रांसफर करने के लिए उपयोग किया जाता है।

उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि आपका एक दोस्त आपको 100 बिटकॉइन भेजता है। जब यह ट्रांसफर होता है, तो यह ट्रांसफर आपके बिटकॉइन वॉलेट के एड्रेस में दर्ज हो जाता है।

बिटकॉइन कैसे कमाए

क्या आप भी बिटकॉइन कैसे कमाए, ये जानना चाहते हैं?

पहला तरीका

अगर आपके पास पैसा है, तो आप एक बिटकॉइन सीधे $999 देकर खरीद सकते हैं। आपको पूरा $999 देने की ज़रूरत नहीं है, आप बिटकॉइन की सबसे छोटी इकाई “सातोशी” भी खरीद सकते हैं।

जैसे हमारे भारत में 1 रुपये में 100 पैसे होते हैं, ठीक उसी तरह 1 बिटकॉइन में 10 करोड़ सातोशी होते हैं। इसलिए, आप चाहे तो बिटकॉइन की सबसे छोटी रक़म सातोशी खरीद कर धीरे-धीरे 1 या उससे ज्यादा बिटकॉइन जमा कर सकते हैं। जब आपके पास बिटकॉइन मौजूद हो जाएगा, और उसका दाम बढ़ जाएगा, तब आप उसे बेच कर ज्यादा पैसे कमा सकते हैं।

दूसरा तरीका

अगर आप ऑनलाइन किसी को कोई सामान बेच रहे हैं, और उस खरीददार के पास अगर बिटकॉइन मौजूद है, तो आप पैसे के बदले में बिटकॉइन ले सकते हैं। ऐसे में आप उन्हें वो सामान भी बेच देंगे और आपको बिटकॉइन भी मिल जाएगा जो आपके बिटकॉइन वॉलेट में स्टोर हो जाएगा।

तीसरा तरीका

बिटकॉइन माइनिंग का। इसके लिए आपको हाई स्पीड प्रोसेसर वाले कंप्यूटर की ज़रूरत पड़ेगी, जिसका हार्डवेयर भी अच्छा होना चाहिए। हम बिटकॉइन का इस्तेमाल सिर्फ ऑनलाइन पेमेंट करने के लिए करते हैं, और जब कोई बिटकॉइन से पेमेंट करता है, तो उस ट्रांज़ैक्शन को वेरीफाई किया जाता है।

जो इन्हें वेरीफाई करते हैं, उन्हें हम माइनर्स कहते हैं, और उन माइनर्स के पास हाई परफॉर्मेंस कंप्यूटर और GPU होता है, और वो इसके ज़रिए ट्रांज़ैक्शन को वेरीफाई करते हैं। वो ये वेरीफाई करते हैं कि ट्रांज़ैक्शन सही है या नहीं, या उसमें किसी तरह की हेराफेरी तो नहीं की गई है।

इस वेरिफिकेशन के बदले उन्हें कुछ बिटकॉइन इनाम के तौर पर मिलता है, और इस तरीके से नए बिटकॉइन मार्केट में आते हैं।

ये कोई भी कर सकता है, लेकिन इसके लिए हाई स्पीड प्रोसेसर वाले कंप्यूटर की ज़रूरत पड़ती है, जिसे खरीदना हर किसी के बजट में नहीं होता।

हर देश में करेंसी को एक साल में छापने का एक सीमा होता है कि आप बस इतने नोट एक साल में छाप सकते हैं, तो ठीक उसी तरह बिटकॉइन के साथ भी कुछ सीमाएं हैं कि 21 मिलियन से ज्यादा बिटकॉइन मार्केट में नहीं आ सकते हैं। यानि कि बिटकॉइन की सीमा बस 21 मिलियन है, उससे ज्यादा बिटकॉइन कभी भी नहीं पाए नहीं जाएंगे।

अभी की बात करें तो मार्केट में करीबन 13 मिलियन बिटकॉइन आ चुके हैं, और नए बिटकॉइन जो हैं वो अब माइनिंग के ज़रिए आयेंगे।

बिटकॉइन में व्यापार कैसे करें?

बिटकॉइन एक डिजिटल मुद्रा है जिसे ऑनलाइन खरीदा और बेचा जा सकता है। बिटकॉइन की कीमत हर जगह एक नहीं होती है, बल्कि यह दुनियाभर की गतिविधियों पर निर्भर करती है। बिटकॉइन ट्रेडिंग का कोई तय समय नहीं होता है, इसकी कीमत में लगातार उतार-चढ़ाव आते रहते हैं।

बिटकॉइन में व्यापार करने के लिए, आपको पहले एक क्रिप्टो एक्सचेंज पर खाता खोलना होगा। क्रिप्टो एक्सचेंज एक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म है जहां आप बिटकॉइन और अन्य क्रिप्टोकरेंसी खरीद और बेच सकते हैं।

एक बार आपके पास एक एक्सचेंज खाता हो जाने के बाद, आपको अपनी पहचान सत्यापित करनी होगी। यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि आप एक वास्तविक व्यक्ति हैं और आपके पास अपने खाते का उपयोग करने का अधिकार है।

एक बार आपकी पहचान सत्यापित हो जाने के बाद, आप बिटकॉइन खरीदने के लिए धनराशि जमा कर सकते हैं। आप क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, बैंक ट्रांसफर या अन्य तरीकों से धनराशि जमा कर सकते हैं।

एक बार आपके पास बिटकॉइन हो जाने के बाद, आप उन्हें अन्य क्रिप्टोकरेंसी या पारंपरिक मुद्राओं में खरीद और बेच सकते हैं। आप बिटकॉइन का उपयोग सामान और सेवाओं के लिए भुगतान करने के लिए भी कर सकते हैं।

बिटकॉइन एक लोकप्रिय और तेजी से बढ़ती हुई डिजिटल मुद्रा है। इसमें कई फायदे हैं, लेकिन कुछ नुकसान भी हैं। बिटकॉइन में व्यापार करने से पहले, आपको इसके जोखिमों और लाभों के बारे में पता होना चाहिए।

और पढ़ें: क्लब हाउस ऐप का उपयोग कैसे करें?

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here