शिलाजीत के फायदे हिंदी | Shilajit Ke Fayade In Hindi

Rate this post

शिलाजीत के फायदे हिंदी, Shilajit Ke Fayade In Hindi, शिलाजीत क्या है, शिलाजीत कब खाना चाहिए, शिलाजीत खाने से कौन कौन से फायदे हैं, शिलाजीत कितने दिन तक खाना चाहिए।

नमस्कार दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में जानेंगे की शिलाजीत के फायदे हिंदी | Benefits Of Shilajit In Hindi. सबसे पहले जान लेते है की, शिलाजीत क्या है? तो चलिए आज के आर्टिकल की शुरुवात करते है।

शिलाजीत क्या है?

शिलाजीत एक चिपचिपा पदार्थ है जो मुख्य रूप से हिमालय की चट्टानों में पाया जाता है। यह सदियों से पौधों के धीमे अपघटन से विकसित होता है।

शिलाजीत आमतौर पर आयुर्वेदिक चिकित्सा में प्रयोग किया जाता है। यह एक प्रभावी और सुरक्षित पूरक है जो आपके समग्र स्वास्थ्य और कल्याण पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

शिलाजीत के फायदे हिंदी | Shilajit Ke Fayade In Hindi

Shilajit Ke Fayade In Hindi
Shilajit Ke Fayade In Hindi

तो चलिए जानते है, शिलाजीत के फायदे हिंदी | Shilajit Ke Fayade In Hindi.

अल्जाइमर रोग (Alzheimer’s disease)

अल्जाइमर रोग एक प्रगतिशील मस्तिष्क विकार है जो स्मृति, व्यवहार और सोच के साथ समस्याओं का कारण बनता है। अल्जाइमर के लक्षणों में सुधार के लिए दवा उपचार उपलब्ध हैं। लेकिन शिलाजीत की आणविक संरचना के आधार पर, कुछ शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि शिलाजीत अल्जाइमर की प्रगति को रोक या धीमा कर सकता है।

शिलाजीत का प्राथमिक घटक एक एंटीऑक्सिडेंट है जिसे फुल्विक एसिड के रूप में जाना जाता है। यह शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट ताऊ प्रोटीन के संचय को रोककर संज्ञानात्मक स्वास्थ्य में योगदान देता है। ताऊ प्रोटीन आपके तंत्रिका तंत्र का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं, लेकिन एक बिल्डअप मस्तिष्क कोशिका क्षति को ट्रिगर कर सकता है।

शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि शिलाजीत में फुल्विक एसिड ताऊ प्रोटीन के असामान्य निर्माण को रोक सकता है और सूजन को कम कर सकता है, संभावित रूप से अल्जाइमर के लक्षणों में सुधार कर सकता है। हालांकि, अधिक शोध और नैदानिक ​​​​परीक्षणों की आवश्यकता है।

कम टेस्टोस्टेरोन स्तर (Low testosterone level)

टेस्टोस्टेरोन एक प्राथमिक पुरुष सेक्स हार्मोन है, लेकिन कुछ पुरुषों का स्तर दूसरों की तुलना में कम होता है। कम टेस्टोस्टेरोन के लक्षणों में शामिल हैं:

  • बाल झड़ना
  • मांसपेशियों की हानि
  • थकान
  • शरीर की चर्बी में वृद्धि

एक नैदानिक ​​अध्ययन में 45 और 55 वर्ष की आयु के बीच के पुरुष स्वयंसेवकों के विश्वसनीय स्रोत, आधे प्रतिभागियों को एक प्लेसबो दिया गया था, और आधे को दिन में दो बार शुद्ध शिलाजीत की 250 मिलीग्राम (मिलीग्राम) खुराक दी गई थी। लगातार 90 दिनों के बाद, अध्ययन में पाया गया कि शुद्ध शिलाजीत प्राप्त करने वाले प्रतिभागियों में प्लेसीबो समूह की तुलना में काफी अधिक टेस्टोस्टेरोन का स्तर था।

Read More:

  1. Kaju Khane Ke Fayde | काजू खाने के फायदे
  2. बादाम खाने के फायदे | Badam Khane Ke fayade

बुढ़ापा (Aging)

चूंकि शिलाजीत फुल्विक एसिड से भरपूर है, एक मजबूत एंटीऑक्सिडेंट और विरोधी भड़काऊ, यह मुक्त कणों और सेलुलर क्षति से भी रक्षा कर सकता है। नतीजतन, शिलाजीत का नियमित उपयोग दीर्घायु, धीमी उम्र बढ़ने की प्रक्रिया और समग्र बेहतर स्वास्थ्य में योगदान दे सकता है।

उच्च ऊंचाई की बीमारी (High altitude sickness)

एक उच्च ऊंचाई लक्षणों की एक श्रृंखला को ट्रिगर कर सकती है, जिनमें निम्न शामिल हैं:

  • फुफ्फुसीय शोथ
  • अनिद्रा
  • सुस्ती, या थका हुआ या सुस्त महसूस करना
  • बदन दर्द
  • पागलपन
  • हाइपोक्सिया

ऊंचाई की बीमारी कम वायुमंडलीय दबाव, ठंडे तापमान या उच्च हवा के वेग से शुरू हो सकती है। शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि शिलाजीत ऊंचाई की समस्याओं को दूर करने में आपकी मदद कर सकता है।

शिलाजीत में फुल्विक एसिड और 84 से अधिक खनिज होते हैं, इसलिए यह कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। यह आपके शरीर की प्रतिरक्षा और स्मृति में सुधार करने के लिए एक एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य कर सकता है, एक विरोधी भड़काऊ, एक ऊर्जा बूस्टर और आपके शरीर से अतिरिक्त तरल पदार्थ को निकालने के लिए एक मूत्रवर्धक है। इन लाभों के कारण, शिलाजीत को उच्च ऊंचाई से जुड़े कई लक्षणों का मुकाबला करने में मदद करने के लिए माना जाता है।

आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया (Iron deficiency anemia)

आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया कम आयरन वाले आहार, रक्त की कमी या आयरन को अवशोषित करने में असमर्थता के परिणामस्वरूप हो सकता है। लक्षणों में शामिल हैं:

  • थकान
  • दुर्बलता
  • ठंडे हाथ और पैर
  • सरदर्द
  • दिल की अनियमित धड़कन

हालाँकि, शिलाजीत की खुराक धीरे-धीरे आयरन के स्तर को बढ़ा सकती है।

एक अध्ययन ने 18 चूहों को छह के तीन समूहों में विभाजित किया। शोधकर्ताओं ने दूसरे और तीसरे समूह में एनीमिया को प्रेरित किया। तीसरे समूह के चूहों को 11 दिनों के बाद 500 मिलीग्राम शिलाजीत मिला। शोधकर्ताओं ने 21 वें दिन सभी समूहों से रक्त के नमूने एकत्र किए। परिणामों से पता चला कि तीसरे समूह के चूहों में दूसरे समूह के चूहों की तुलना में हीमोग्लोबिन, हेमटोक्रिट और लाल रक्त कोशिकाओं का स्तर अधिक था। ये सभी आपके रक्त के महत्वपूर्ण घटक हैं।

बांझपन (Infertility)

शिलाजीत पुरुष बांझपन के लिए भी एक सुरक्षित पूरक है। एक अध्ययन विश्वसनीय स्रोत में, 60 बांझ पुरुषों के एक समूह ने भोजन के बाद 90 दिनों तक दिन में दो बार शिलाजीत लिया। 90 दिनों की अवधि के अंत में, 60 प्रतिशत से अधिक अध्ययन प्रतिभागियों ने कुल शुक्राणुओं की संख्या में वृद्धि दिखाई। 12 प्रतिशत से अधिक शुक्राणु गतिशीलता में वृद्धि हुई थी। शुक्राणु गतिशीलता एक नमूने में शुक्राणु की क्षमता को पर्याप्त रूप से स्थानांतरित करने के लिए संदर्भित करती है, जो प्रजनन क्षमता का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

हृदय स्वास्थ्य (Heart health)

आहार पूरक के रूप में शिलाजीत हृदय स्वास्थ्य में भी सुधार कर सकता है। शोधकर्ताओं ने प्रयोगशाला चूहों पर शिलाजीत के हृदय संबंधी प्रदर्शन का परीक्षण किया। शिलाजीत का पूर्व उपचार प्राप्त करने के बाद, कुछ चूहों को दिल की चोट को प्रेरित करने के लिए आइसोप्रोटेरेनॉल का इंजेक्शन लगाया गया था। अध्ययन में पाया गया कि हृदय की चोट से पहले शिलाजीत देने वाले चूहों में हृदय के घाव कम थे।

FaQ:

शिलाजीत कब खाना चाहिए?

रात में सोने से पहले आप शिलाजीत का सेवन करें।

शिलाजीत खाने से कौन कौन से फायदे हैं?

कम टेस्टोस्टेरोन स्तर, उच्च ऊंचाई की बीमारी, आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया इ.

शिलाजीत कितने दिन तक खाना चाहिए?

शिलाजीत एक माह तक खाना पर्याप्त होता है।

आज हमने क्या सीखा:

दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में जाना की शिलाजीत के फायदे हिंदी | Benefits Of Shilajit In Hindi. तो चलिए मिलते है अगले आर्टिकल में।

Leave a Reply