DBMS in Hindi | DBMS क्या है?

दोस्तों आज के आर्टिकल में हम आपको DBMS in hindi और full form of RDBMS इस विषय पर जानकारी देनेवाले है। तो सुरु करते है आज का आर्टिकल DBMS in hindi.

DBMS क्या है? – DBMS in hindi

DBMS का full form Database Management System है। DBMS एक software है जो data store और retrive करने के लिए उपयोग किया जाता है।  इस में जो भी data store करते है वो सब data सुरक्षित होता है। इसमें program  का एक group याने समूह होता है जो Database को manipulate करता है।

DBMS क्या है

DBMS में कोई भी data retrive करने के लिए या कोई भी data देखने के लिए  एक application या फिर operating system को instruction देना पड़ता है।  बड़ी मात्रा में DBMS अपने users और किसी भी third-party software को अपना data store और retrive करने के लिए उपयोग होता है ।

DBMS अपने users को उनकी आवश्यकता के अनुसार अपना Database बनाने की अनुमति देता है। शब्द “DBMS” में Database के users और अन्य application programming  शामिल हैं। यह data और software application के बीच एक interface प्रदान करता है।

तो चलिए अभी तो हमने देख लिए की,  DBMS in hindi DBMS क्या है? और full form of RDBMS

DBMS का इतिहास

यहाँ, इतिहास से महत्वपूर्ण landmark हैं:

1960 – चार्ल्स बच्चन ने पहली DBMS design तैयार की

1970 – Codd introduced IBM’S Information Management System (IMS)

1976 – पीटर चेन ने Entity-relationship model खोज  किया, जिसे ER model के रूप में भी जाना जाता है

1980 – Relational Model बहोत ही चाहिता database component हो गया। 

1985 – Object-oriented DBMS विकसित हुआ।

1990 – relational DBMS में object-orientation का समावेश।

1991 – Microsoft ships MS access, a personal DBMS and that displaces all other personal DBMS products.

1995 – पहला Internet database applications

1997 – XML ने database processing  के लिए आवेदन किया। कई vendors XML को DBMS उत्पादों में एकीकृत करना शुरू करने लगे। 

Characteristics of Database Management System 

– सुरक्षा प्रदान करता है और redundancy को हटाता है

– database system की Self-describing प्रकृति

– programs और data abstraction के बीच Insulation

– Support of multiple views of the data

– Sharing of data and multiuser transaction processing

– DBMS entities और उनके बीच relations को टेबल बनाने की अनुमति देता है।

– यह ACID properties ( Atomicity, Consistency, Isolation, and Durability) का अनुसरण करता है।

– DBMS बहु-users  का समर्थन करता है जो उपयोगकर्ताओं को समानांतर में डेटा तक पहुंचने और manipulate  करने की अनुमति देता है।

लोकप्रिय DBMS Software

यहाँ, कुछ लोकप्रिय DBMS Software की सूची दी गई है:

– MySQL
– Microsoft Access
– Oracle
– PostgreSQL
– dBASE
– FoxPro
– SQLite
– IBM DB2
– LibreOffice Base
– MariaDB
– Microsoft SQL Server 

अन्य पढ़िए:

1) 2021 में कोडिंग कैसे सीखे | Coding Kaise Sikhe

2) Coding Kya Hai | कोडिंग क्या है?

Database Management System के प्रकार 

Database Management System के चार प्रकार हैं:

– Hierarchical database
– Network database
– Relational database
– Object-Oriented database

Hierarchical database

Hierarchical database में, डेटा को पेड़ जैसी structure में arrange किया जाता है। डेटा को Hierarchical (ऊपर नीचे या नीचे ऊपर) प्रकार store किया जाता है। माता-पिता-बच्चे के संबंध का उपयोग करके डेटा का प्रतिनिधित्व किया जाता है। Hierarchical database में माता-पिता के कई बच्चे हो सकते हैं, लेकिन बच्चों के माता-पिता केवल एक ही होते हैं।

Network database

Network database model में प्रत्येक बच्चे को कई माता-पिता रखने की अनुमति देता है। इस model में, entities को एक ग्राफ में organize किया जाता है जिसे कई रास्तों से पहुँचा जा सकता है।

Relational database

Relational database सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला database model है क्योंकि यह सबसे आसान में से एक है। यह model normalizing data in the rows and columns of the tables पर आधारित है । Relational database data को एक fix structure में स्टोर करता है और SQL का उपयोग करके manipulate किया जाता है।

Object-Oriented database

Object-Oriented database में डेटा को Object के रूप में स्टोर किया जाता है।  यह databaseको object के संग्रह के रूप में स्टोर  करता है।  जो डेटा को उसके data members values and operations दोनों को संग्रहीत करता है।

DBMS का उपयोग 

बैंकिंग –  ग्राहक की जानकारी, खाता गतिविधियों, भुगतान, जमा, ऋण आदि के लिए।

एयरलाइंस  – reservation और अनुसूची जानकारी के लिए।

विश्वविद्यालय  – छात्र जानकारी, पाठ्यक्रम पंजीकरण, कॉलेज और ग्रेड के लिए।

Finance 

Manufacturing

HR Management – कर्मचारियों, वेतन, पेरोल, कटौती, तनख्वाह की पीढ़ी आदि के बारे में जानकारी के लिए।

DBMS के लाभ

– DBMS डेटा को स्टोर और पुनर्प्राप्त करने के लिए कई तरह की technique प्रदान करता है

– DBMS एक ही डेटा का उपयोग करके कई अनुप्रयोगों की जरूरतों को संतुलित करने के लिए एक कुशल हैंडलर के रूप में कार्य करता है

– डेटा के लिए Uniform administration procedures

– एप्लिकेशन प्रोग्रामर कभी भी डेटा प्रतिनिधित्व और भंडारण के विवरण के संपर्क में नहीं आते हैं।

– एक DBMS डेटा को कुशलतापूर्वक संग्रहीत और पुनर्प्राप्त करने के लिए विभिन्न शक्तिशाली कार्यों का उपयोग करता है।

– Data Intergrity  और सुरक्षा प्रदान करता है

– एक डीबीएमएस डेटा तक समवर्ती पहुंच को इस तरह से शेड्यूल करता है कि एक समय में केवल एक उपयोगकर्ता एक ही डेटा तक पहुंच सकता है

– कम अनुप्रयोग विकास समय

DBMS का नुकसान

DBMS बहुत सारे फायदे दे सकता है लेकिन, इसमें कुछ खामियां हैं –

– एक DBMS के हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की कीमत काफी अधिक होती है जो आपके संगठन के बजट को बढ़ा देती है।

– अधिकांश डेटाबेस प्रबंधन प्रणालियाँ अक्सर जटिल प्रणालियाँ होती हैं, इसलिए उपयोगकर्ताओं को DBMS का उपयोग करने के लिए -प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है।

– कुछ संगठनों में, सभी डेटा को एक एकल Database में एकीकृत किया जाता है जो बिजली की विफलता के कारण damaged हो सकता है या -स्टोरेज मीडिया पर डेटाबेस दूषित हो जाता है

– कई users  द्वारा एक समय में एक ही प्रोग्राम का उपयोग करने से कभी-कभी कुछ डेटा की हानि हो जाती है।
-DBMS sophisticated calculations नहीं कर सकता

तो ये है DBMS in hindi इस विषय पर जानकारी। 

Full form of RDBMS

RDBMS का Full form Relational Database Management Systems है। 

SQL, MS SQL Server, IBM DB2, ORACLE, My-SQL और Microsoft Access जैसी सभी आधुनिक database management systems, RDBMS पर आधारित हैं। इसे Relational Database Management Systems (RDBMS) कहा जाता है क्योंकि यह E.F. Codd द्वारा पेश किए गए Relational model पर आधारित है।

RDBMS काम किस प्रकार करता है

RDBMS में डेटा को tuple (row ) के रूप में दर्शाया जाता है। Relational Database सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला Database है। इसमें हर एक table को अपनी एक primary key होती है। 

RDBMS का इतिहास

1970 से 1972 के दौरान, E.F. Codd ने Relational Database मॉडल के उपयोग का प्रस्ताव करने के लिए एक पेपर प्रकाशित किया। RDBMS मूल रूप से उस E.F. Codd के Relational model  आविष्कार पर आधारित है।

तो ये है RDBMS के बारेमे जानकारी। 

आज हमने क्या देखा:

आज हमने देखा की, DBMS क्या है? ( DBMS in hindi ) और full form of RDBMS किया है। तो चलिए आज के लिए इतना ही मिलते है एक नए पोस्ट मैं। 

Leave a Comment