Advertisement

2024 की शुरुआत एप्पल के लिए उम्मीद के मुताबिक नहीं रही. लगातार दो दिनों में, कंपनी के शेयरों में गिरावट देखी गई है और आज शुक्रवार को भी, शेयर लाल निशान पर कारोबार कर रहे हैं। इस कमजोरी की वजह से बड़ा धमाका हुआ है – एप्पल अब दुनिया की सबसे मूल्यवान कंपनी नहीं रह गयी है। उसका ये खिताब दिग्गज सॉफ्टवेयर कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने छीन लिया है। हालांकि एप्पल की ये फिसलन अचानक नहीं हुई है। 

मांग में कमी की खबरें पहले से सुनाई दे रही थीं, जिसका असर आज कंपनी के शेयरों पर साफ दिख रहा है। आने वाले दिनों में एप्पल के लिए चुनौतीपूर्ण रह सकते हैं, क्योंकि उसे न सिर्फ मांग कम होने की समस्या से निपटना होगा, बल्कि माइक्रोसॉफ्ट जैसे कंपनियों से बढ़ती प्रतिस्पर्धा का भी सामना करना होगा। 

एप्पल के शेयरों में लगातार गिरावट के बीच, माइक्रोसॉफ्ट के लिए खुशखबरियां आ रही हैं! जहां एप्पल तपता जा रहा है, वहीं माइक्रोसॉफ्ट के स्टॉक ने बाजी मारी है। पिछले हफ्ते 1.6% की जोरदार बढ़ोतरी के साथ, कंपनी का बाजार मूल्य 2.875 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंच गया है, और इसी के साथ माइक्रोसॉफ्ट ने दुनिया की सबसे मूल्यवान कंपनी का खिताब एप्पल से छीन लिया है! निवेशकों का झुकाव अब तेजी से माइक्रोसॉफ्ट की तरफ बढ़ रहा है, जिसकी कई वजहें हैं। 

एक ओर, कंपनी जनरेटिव आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (जीएआई) के क्षेत्र में अपनी पकड़ मजबूत कर रही है और इससे मोटा मुनाफा कमाने की उम्मीद जताई जा रही है। दूसरी ओर, क्लाउड कंप्यूटिंग में भी माइक्रोसॉफ्ट का प्रदर्शन शानदार रहा है। मजबूत वित्तीय नतीजे भी कंपनी की सफलता में अहम भूमिका निभा रहे हैं। कुल मिलाकर, साल 2024 माइक्रोसॉफ्ट के लिए शानदार रहा है और कंपनी के स्टॉक में तेजी और बढ़ने की उम्मीद जताई जा रही है।

Advertisement

और पढ़ें: Google ने लात मारी, 19 साल का साथ तोड़ा, दिल तो टूटा पर वो बोला – ‘ठीक है’!

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here